बुलंदशहर बवाल के बाद बिगड़ सकते हैं वेस्ट यूपी के हालात, बेहद खतरनाक हैं खुफिया इनपुट

वेस्ट यूपी में गोकशी की वारदात कभी भी माहौल को बिगाड़ सकती हैं। यहां गोकशी की वारदात के बाद सांप्रदायिक तनाव की स्थिति बन जाती है। मेरठ, मुजफ्फरनगर, शामली, सहारनपुर और बागपत समेत कई जनपदों में माहौल खराब करने की साजिश भी हो चुकी है।

खुफिया विभाग कई बार शासन को इनपुट भेज चुका कि वेस्ट यूपी में जिलों में गोकशी जैसे मुद्दों से बवाल कराने की प्लानिंग चल रही है। इसको लेकर पुलिस प्रशासन अलर्ट है। इसके बावजूद बुलंदशहर जिले में बवाल हो गया।

गोकशी पर सांप्रदायिक माहौल बनाकर वेस्ट को सुलगाने की गहरी साजिश है। 2019 चुनाव से पहले वेस्ट यूपी में बवाल हो सकता है, गोकशी विस्फोटक करा सकती है। इसको लेकर खुफिया विभाग शासन को इनपुट कई बार भेज चुका है।

मेरठ, मुजफ्फरनगर, शामली, सहारनपुर समेत कई जिलों में गोकशी पर हिंदू संगठन और दूसरे समुदाय के लोग आमने सामने आए। कई बार स्थिति ऐसी बनी कि गोकशी को लेकर पथराव, वाहनों में तोड़फोड़ व आगजनी की घटना हो चुकी है।
पुलिस पर फायरिंग तक हो चुकी है। मेरठ में खासतौर पर लिसाड़ीगेट, ब्रह्मपुरी, सरधना, सरूरपुर, किठौर, भावनपुर,जानी, इंचौली, दौराला, खरखौदा और मुंडाली में गोकशी सांप्रदायिक तनाव की स्थिति बनवा चुकी है।

गोकशी पर भड़कता जनाक्रोश
गोकशी को लेकर जल्द ही जनाक्रोश भड़कता है। दादरी में घर में गोमांस मिलने के शक में इखलाक को पीट पीटकर मार डाला। उसको लेकर दादरी में बवाल हुआ था। गाजियाबाद व नोएडा में गोकशी बवाल करा चुकी है।

वेस्ट यूपी में दंगा भड़काने की कई बार साजिश हुई, गनीमत रही कि पुलिस प्रशासन से स्थिति को संभाला। मेरठ, बुलंदशहर, हापुड़ समेत कई जनपदों में रोजाना गोकशी को लेकर तनाव की स्थिति होती है।
पीएम तक दे चुके हिदायत

वेस्ट यूपी में गोकशी पर मारपीट, पथराव और आगजनी की घटना होती है, इसकी जानकारी पुलिस के आला अधिकारियों को मालूम है। गोकशी के शक में दूसरे समुदाय के लोगों पर हमला होने की घटना पर पीएम नरेंद्र मोदी आपत्ति जता चुके हैं।

कई बार प्रधानमंत्री ने मंच से बोला है कि हिंदू संगठन या फिर किसी भी दल को कानून हाथ में लेने की इजाजत नहीं है। भाजपा कार्यकर्ता को कई बार पीएम हिदायत भी दे चुके हैं।

गोकशी सुनते ही जुटी भीड़
गोकशी होने की खबर लगते ही लोगों की भीड़ उमड़ती है। कई संगठनों के लोग थानों में घेराव करते हैं। तीखे तेवर और हल्ला मचाकर माहौल बनाने की कोशिश होती है। पुलिस भी हिंदू संगठन के कार्यकर्ताओं के सामने बेबस नजर आती है। सत्ताधारी नेता भी पुलिस पर बेवजह दबाव बनाना मानों उनकी आदत बन गई है। पुलिस प्रशासन के अधिकारी मानते हैं कि गोकशी वेस्ट यूपी के जिलों में बखेड़ा करा सकती है।

खुफिया इनपुट बेहद खतरनाक
पुलिस सूत्रों के मुताबिक खुफिया विभाग का इनपुट बेहद खतरनाक हैं। मेरठ, बुलंदशहर और मुजफ्फरनगर में सर्वाधिक गोकशी की घटना हुई हैं। इतना नहीं गोतस्कर पुलिस पर सीधा हमला बोलते हैं। कई बार पुलिस की जान तक बची है। सूत्रों की माने तो वेस्ट यूपी में सबसे ज्यादा खतरनाक गोकशी की घटनाएं है। जिसको लेकर माहौल खराब कराया जा सकता